बातचीत

हिन्दी फ़िल्मों में बस पैसों के लिये काम किया

प्रसिद्ध अभिनेत्री तथा निर्देशक अपर्णा सेन से बातचीत

फ्लोरेंस के “रिवर टू रिवर फिल्म फेस्टिवल” में डॉ सुनील दीपक को लड़कपन से पसंद अभिनेत्री से रूबरू होने का मौका मिला

Apr 13th 2011

गुमनामी में बहुत खुश हूँ: फ़ेक आईपीएल प्लेयर

January 23, 2010 | 2 Comments

image FIP वापस आ रहा है, पर क्या यह दोबारा इतिहास रचेगा या फिर बीसीसीआई या दूसरों के साथ कानूनी विवादों में गुम होकर रह जायेगा? पढ़िये 'ग्रेट बाँग' अर्नब रे द्वारा लिया साक्षात्कार। लेख पढ़ें »
बातचीत से अन्य आलेख »

दस चीजें जो विकिपीडिया नहीं है

January 6, 2009 | 3 Comments

image कुछ लोग विकिपीडिया की आत्मस्वीकृति के बावजूद इसमें लोकशाही की झलक देखते हैं तो कुछ यह मानते हैं कि लोकतंत्र के सिद्धांतों के विपरीत यहाँ बहुमत से काम नहीं होता। लेख पढ़ें »
अंतर्जाल से अन्य आलेख »

नया तकनीकी विश्व रचेगा भारत

December 25, 2008 | 5 Comments

image इस उभरती दुनिया के लिये उपकरण तथा सेवाओं के निर्माण में भागीदारी से भारतीय कंपनियाँ न केवल घरेलू बाजार में लाभ कमा सकती हैं बल्कि वैश्विक बाज़ारों में भी पैठ बना सकती हैं। लेख पढ़ें »
प्रौद्योगिकी से अन्य आलेख »

आडवाणी पर ओबामा प्रभाव

January 11, 2009 | Leave comment

image बॉलीवुड एक्सट्रा की दास्तान, आडवाणी का नया ब्लॉग, एप्पल के सीईओ की खुली पाती, भारत के सेलिब्रिटी ब्लॉगर और अनेक और कड़ियाँ। लेख पढ़ें »
कड़ी की झड़ी से अन्य आलेख »

social RSS Feed Samayiki at Twitter Facebook page of Samayiki Google

भारत में आधुनिक समुद्र विज्ञान के जनक

May 1, 2016 | 4 Comments

image 1960 के दशक के अन्तर्राष्ट्रीय हिन्द महासागर अभियान के दौरान की गईं खोजों और उनसे प्राप्त परिणामों ने भूवैज्ञानिक सिद्धांतों और संकल्पनाओं में क्रांति ला दी और देश में समुद्रविज्ञान के क्षेत्र में अनुसंधान की नींव रखी। लेख पढ़ें »
विज्ञान से अन्य आलेख »

निष्कर्षों में फटकार, सिफारिशों में पुचकार

November 28, 2009 | 1 Comment

image बाबरी मस्जिद मामले की तफ़्तीश कर रही लिब्रहान आयोग की 17 साल बाद जारी रपट ने साजिश का पर्दाफाश तो किया पर देश को साम्प्रदायिक प्रलय की ओर ढकलने के लिए दोषी पाये गये 68 व्यक्तियों को सजा देने की बात पर चुप्पी साध ली। लेख पढ़ें »
राजनीति से अन्य आलेख »

ग्रामीण भारत की बदलती नारी

December 28, 2009 | 3 Comments

image बीते 20 सालों में कुछ ग्रामीण औरतों ने घर के दायरे से बाहर निकल, पंचायती राजनीति में कदम रख ग्रामीण भारत को बदलने की कोशिश की है। उन्हीं की कथायें है "सरपंच साहिब" में। पढ़िये डॉ सुनील दीपक की समीक्षा। लेख पढ़ें »
समाज से अन्य आलेख »

साबुनी रंगभूमि का रियैलिटी सम्मोहन

March 7, 2009 | 1 Comment

image दक्षिणी मुंबई की आलीशान इमारतों के बीच बसे इस साबुनी घाट में वो सारे तत्व हैं जो इस शहर को महानगर बनाते हैं। लेख पढ़ें »
चित्र कथ्य से अन्य आलेख »

टैग बदरिया

सामयिकी के लेखक

All authors