विज्ञान

भारत में आधुनिक समुद्र विज्ञान के जनक

देश में समुद्रविज्ञान अध्ययन के कर्णधार थे अमरीका से भारत आये प्रोफेसर लाफाण्ड और पद्मश्री डॉ एन.के.पणिक्कर

1960 के दशक के अन्तर्राष्ट्रीय हिन्द महासागर अभियान के दौरान की गईं खोजों और उनसे प्राप्त परिणामों ने भूवैज्ञानिक सिद्धांतों और संकल्पनाओं में क्रांति ला दी और देश में समुद्रविज्ञान के क्षेत्र में अनुसंधान की नींव रखी।

May 1st 2016, 4

मैं चौबीसों घंटे लेखक ही होता हूँ

December 28, 2008 | 6 Comments

image भारतीय अंग्रेज़ी लेखक अल्ताफ टायरवाला से सामयिकी के संपादक मंडल के सदस्य डॉ सुनील दीपक की बातचीत लेख पढ़ें »
बातचीत से अन्य आलेख »

प्रिंट आन डिमांड से लेखक प्रकाशक भी बने

March 27, 2009 | 3 Comments

image प्रिंट आन डिमाँड सेवा द्वारा सेल्फ पब्लिशिंग अब केवल व्यक्तिगत वैनिटी प्रकाशन नहीं रहा। ईबुक्स के युग में अब प्रकाशक भी इस तकनीक का महत्व समझने लगे हैं। लेख पढ़ें »
अंतर्जाल से अन्य आलेख »

नटाल: माइक्रोसॉफ़्ट का नया गेमिंग आविष्कार

January 15, 2010 | 1 Comment

image अगर आपके विडियो गेम से गेम नियंत्रक या वायरलेस रिमोट कण्ट्रोल हटा दें या फिर ये गेम खेलना मैदान में खेलने जैसा ही बन जाये तो कैसा हो? पढ़ें विनय जैन का आलेख। लेख पढ़ें »
प्रौद्योगिकी से अन्य आलेख »

मिस्ड कॉल किया और चाय हाज़िर

January 4, 2009 | 2 Comments

image सेलफोन से चाय बेचते मंजूनाथ, बैकअप के अभाव में चौपट हुई कंपनी, शॉपिंग का विज्ञान, और भी बहुत कुछ, कड़ी की झड़ी में। लेख पढ़ें »
कड़ी की झड़ी से अन्य आलेख »

social RSS Feed Samayiki at Twitter Facebook page of Samayiki Google

प्रायोगिक भौतिकी के जनक: गैलीलियो

February 8, 2009 | 2 Comments

image अंतर्राष्ट्रीय खगोलिकी वर्ष 2009 पर सामयिकी की विशेष शृंखला के द्वितीय लेख में नेहरू तारामण्डल, मुंबई के निदेशक पीयूष पाण्डेय आधुनिक प्रायोगिक विज्ञान के जन्मदाता गैलीलियो गैलिली को याद कर रहे हैं। लेख पढ़ें »
विज्ञान से अन्य आलेख »

और फिर, वे मुझे मारने आए

January 31, 2009 | 3 Comments

image श्रीलंका जैसे संघर्षरत देश में सच बोलने के खतरे जानते हुये भी कुछ पत्रकार अन्तरात्मा की पुकार पर कलम थामे हुये हैं। प्रस्तुत लेख द संडे लीडर के दिवंगत संपादक का अंतिम संपादकीय है जिसे उन्होंने अपनी हत्या किये जाने पर प्रकाशित करने का निर्देश दिया था। लेख पढ़ें »
राजनीति से अन्य आलेख »

दो नाईजीरिया

November 10, 2010 | 1 Comment

image ईमेल स्कैम द्वारा दुनिया भर को उल्लू बनाने वाले देश में संक्षिप्त प्रवास के बाद डॉ सुनील दीपक को वहाँ के लोग तो शालीन लगे, लेकिन जेहन में भ्रष्टाचार और तानाशाही झेलते देश की खराब तस्वीर और भी पुख्ता हो गयी। लेख पढ़ें »
समाज से अन्य आलेख »

क्यों स्लमडॉग मिलियनेयर मुझे प्रभावित न कर सकी?

February 3, 2009 | 6 Comments

image गंदी बस्ती के एक लड़के की रंक से राजा बनने के कथा पर बनी डैनी बॉयल की फिल्म हिट बन चुकी है। सौतिक बिस्वास सवाल उठा रहे हैं कि क्या सचमुच ये फिल्म एक ''मास्टरपीस'' है, जैसा कि इसे बताया जा रहा है। लेख पढ़ें »
सिनेमा से अन्य आलेख »

साबुनी रंगभूमि का रियैलिटी सम्मोहन

March 7, 2009 | 1 Comment

image दक्षिणी मुंबई की आलीशान इमारतों के बीच बसे इस साबुनी घाट में वो सारे तत्व हैं जो इस शहर को महानगर बनाते हैं। लेख पढ़ें »
चित्र कथ्य से अन्य आलेख »

टैग बदरिया

सामयिकी के लेखक

All authors