समाज

ग्रामीण भारत की बदलती नारी

हार्पर कॉलिंस द्वारा प्रकाशित "सरपंच साहिब ‍ चेंजिंग द फेस आफ इंडिया" की समीक्षा।

बीते 20 सालों में कुछ ग्रामीण औरतों ने घर के दायरे से बाहर निकल, पंचायती राजनीति में कदम रख ग्रामीण भारत को बदलने की कोशिश की है। उन्हीं की कथायें है “सरपंच साहिब” में। पढ़िये डॉ सुनील दीपक की समीक्षा।

Dec 28th 2009, 3

हिन्दी फ़िल्मों में बस पैसों के लिये काम किया

April 13, 2011 | Leave comment

image फ्लोरेंस के "रिवर टू रिवर फिल्म फेस्टिवल" में डॉ सुनील दीपक को लड़कपन से पसंद अभिनेत्री से रूबरू होने का मौका मिला लेख पढ़ें »
बातचीत से अन्य आलेख »

रॉकमेल्ट ब्राउज़र : फ़ेसबुकिया वेब की पराकाष्ठा?

January 19, 2011 | 5 Comments

image सोशियल ब्राउज़र की शुरूआत मोजिल्ला आधारित फ्लॉक ब्राउज़र से हुई थी जिसमें ब्राउज़र में ही ब्लॉगिंग की तमाम सुविधाएँ मौजूद थी। सामयिकी संपादक रविशंकर श्रीवास्तव मानते हैं कि रॉकमेल्ट ब्राउज़र उससे भी एक कदम आगे है। लेख पढ़ें »
अंतर्जाल से अन्य आलेख »

हात्सूने मिकु: जापान की अनोखी रॉक स्टार

November 21, 2010 | Leave comment

image सिर्फ सोलह बरस की उम्र में जापान की सबसे मशहूर रॉक गायिका बन चुकी हत्सूने मिकु अगर चाहे तो ताजिंगदी 16 बरस की बने रह सकती है। लिंडसे लोहान की तरह उसके किसी ड्रग स्कैंडल नुमा पचड़ों में पड़ने की संभावनायें भी शून्य हैं। लेख पढ़ें »
प्रौद्योगिकी से अन्य आलेख »

दर्पण मेरे यह तो बता

February 1, 2009 | 1 Comment

image NDTV ने ब्लॉगर पर डाली कानूनी नकेल, ग्लोबल वार्मिंग के घपले की कहानी और सोशियल मीडिया कंसल्टेंट ही नष्ट कर रहे हैं सोशियल मीडिया को? यह, और भी बहुत सारी इतवारी कड़ियाँ बतायें अंतर्जाल का हाल। लेख पढ़ें »
कड़ी की झड़ी से अन्य आलेख »

social RSS Feed Samayiki at Twitter Facebook page of Samayiki Google

प्रायोगिक भौतिकी के जनक: गैलीलियो

February 8, 2009 | 2 Comments

image अंतर्राष्ट्रीय खगोलिकी वर्ष 2009 पर सामयिकी की विशेष शृंखला के द्वितीय लेख में नेहरू तारामण्डल, मुंबई के निदेशक पीयूष पाण्डेय आधुनिक प्रायोगिक विज्ञान के जन्मदाता गैलीलियो गैलिली को याद कर रहे हैं। लेख पढ़ें »
विज्ञान से अन्य आलेख »

और फिर, वे मुझे मारने आए

January 31, 2009 | 3 Comments

image श्रीलंका जैसे संघर्षरत देश में सच बोलने के खतरे जानते हुये भी कुछ पत्रकार अन्तरात्मा की पुकार पर कलम थामे हुये हैं। प्रस्तुत लेख द संडे लीडर के दिवंगत संपादक का अंतिम संपादकीय है जिसे उन्होंने अपनी हत्या किये जाने पर प्रकाशित करने का निर्देश दिया था। लेख पढ़ें »
राजनीति से अन्य आलेख »

दो नाईजीरिया

November 10, 2010 | 1 Comment

image ईमेल स्कैम द्वारा दुनिया भर को उल्लू बनाने वाले देश में संक्षिप्त प्रवास के बाद डॉ सुनील दीपक को वहाँ के लोग तो शालीन लगे, लेकिन जेहन में भ्रष्टाचार और तानाशाही झेलते देश की खराब तस्वीर और भी पुख्ता हो गयी। लेख पढ़ें »
समाज से अन्य आलेख »

क्यों स्लमडॉग मिलियनेयर मुझे प्रभावित न कर सकी?

February 3, 2009 | 6 Comments

image गंदी बस्ती के एक लड़के की रंक से राजा बनने के कथा पर बनी डैनी बॉयल की फिल्म हिट बन चुकी है। सौतिक बिस्वास सवाल उठा रहे हैं कि क्या सचमुच ये फिल्म एक ''मास्टरपीस'' है, जैसा कि इसे बताया जा रहा है। लेख पढ़ें »
सिनेमा से अन्य आलेख »