राजनीति

कश्मीर बहुत छोटा है आज़ादी के लिए

भूटान के दसवें हिस्से जितने क्षेत्रफल वाले लैंड लाक्ड आजाद देश से न भारत का भला होगा न कश्मीरी मुसलमानों का

कश्मीरी मुसलमानों के हित में यही है कि वे यथापूर्व स्थिति को प्राप्त करने का प्रयत्न करें क्योंकि टालमटोल वाली राजनीतिक नीति के रहते यह नामुमकिन है कि “आर या पार” जैसा कोई रवैया भारत सरकार अख्तियार करे।

Sep 22nd 2010, 14

भाषा पर इतिहास का बोझ ना डालें

February 24, 2009 | 4 Comments

image अँग्रेज़ी में लिखने वाली बंगलौर निवासी लोकप्रिय भारतीय उपन्यासकार व लेखिका अनीता नायर से डॉ सुनील दीपक की बातचीत लेख पढ़ें »
बातचीत से अन्य आलेख »

दस चीजें जो विकिपीडिया नहीं है

January 6, 2009 | 3 Comments

image कुछ लोग विकिपीडिया की आत्मस्वीकृति के बावजूद इसमें लोकशाही की झलक देखते हैं तो कुछ यह मानते हैं कि लोकतंत्र के सिद्धांतों के विपरीत यहाँ बहुमत से काम नहीं होता। लेख पढ़ें »
अंतर्जाल से अन्य आलेख »

नया तकनीकी विश्व रचेगा भारत

December 25, 2008 | 5 Comments

image इस उभरती दुनिया के लिये उपकरण तथा सेवाओं के निर्माण में भागीदारी से भारतीय कंपनियाँ न केवल घरेलू बाजार में लाभ कमा सकती हैं बल्कि वैश्विक बाज़ारों में भी पैठ बना सकती हैं। लेख पढ़ें »
प्रौद्योगिकी से अन्य आलेख »

सर्वगुण संपन्न आटो सुंदरी

March 8, 2009 | Comments Off on सर्वगुण संपन्न आटो सुंदरी

image चिड़ियों ने चुराई आईसक्रीम, न्यूयॉर्क की महिला ने खोई अपनी पहचान और सचिन तेंदुलकर के बैग में क्या है। अंतर्जाल पर कहाँ और क्या क्या हो रहा है? जानिये हर इतवार सामयिकी पर। लेख पढ़ें »
कड़ी की झड़ी से अन्य आलेख »

social RSS Feed Samayiki at Twitter Facebook page of Samayiki Google

खगोल विज्ञान से बढ़ेगी प्रगति

January 26, 2009 | Comments Off on खगोल विज्ञान से बढ़ेगी प्रगति

image अंतर्राष्ट्रीय खगोल विज्ञान वर्ष 2009 के उपलक्ष्य में सामयिकी की विशेष श्रृंखला के पहले लेख में दक्षिण अफ्रीकी अंतरिक्ष वैज्ञानिक केविन्द्रन गोवेन्देर बता रहे हैं कि किस तरह खगोल विज्ञान का निर्धन राष्ट्रों में विकास एवं प्रसार उनकी सामाजिक-आर्थिक व्यवस्था के विकास में सहायक सिद्ध हो सकता है। लेख पढ़ें »
विज्ञान से अन्य आलेख »

और फिर, वे मुझे मारने आए

January 31, 2009 | 3 Comments

image श्रीलंका जैसे संघर्षरत देश में सच बोलने के खतरे जानते हुये भी कुछ पत्रकार अन्तरात्मा की पुकार पर कलम थामे हुये हैं। प्रस्तुत लेख द संडे लीडर के दिवंगत संपादक का अंतिम संपादकीय है जिसे उन्होंने अपनी हत्या किये जाने पर प्रकाशित करने का निर्देश दिया था। लेख पढ़ें »
राजनीति से अन्य आलेख »

दो नाईजीरिया

November 10, 2010 | 1 Comment

image ईमेल स्कैम द्वारा दुनिया भर को उल्लू बनाने वाले देश में संक्षिप्त प्रवास के बाद डॉ सुनील दीपक को वहाँ के लोग तो शालीन लगे, लेकिन जेहन में भ्रष्टाचार और तानाशाही झेलते देश की खराब तस्वीर और भी पुख्ता हो गयी। लेख पढ़ें »
समाज से अन्य आलेख »

साबुनी रंगभूमि का रियैलिटी सम्मोहन

March 7, 2009 | 1 Comment

image दक्षिणी मुंबई की आलीशान इमारतों के बीच बसे इस साबुनी घाट में वो सारे तत्व हैं जो इस शहर को महानगर बनाते हैं। लेख पढ़ें »
चित्र कथ्य से अन्य आलेख »

टैग बदरिया

सामयिकी के लेखक

All authors