दस चीजें जो विकिपीडिया नहीं है

इस विशाल सोशियल मीडिया विश्वकोश की सफलता के नेपथ्य में विशाल भ्रांतियाँ भी हैं

गस्त 2006 में, जब हिन्दी विकिपीडिया को शुरु हुये 3 साल हो चुके थे, निरंतर में हमनें विकिपीडिया पर योगदान का आह्वान किया था। आज हिन्दी विकिपीडिया पर 24,000 से ज्यादा पृष्ठ हैं और 9,700 से अधिक प्रयोक्ता। यह शायद उपयुक्त समय हैं जब हम विकिपीडिया पर चर्चा को आगे बढ़ायें।

आधुनिक इंटरनेटिय युग में विकिपीडिया ने एक ऐसी जानकारी के स्रोत और सामाजिक आंदोलन का आकार लिया है जो ज्ञान एकत्र करने की तमाम पारंपरिक रीतियों को चुनौती देता नज़र आता है। विकिपीडिया पर नीतिबद्ध स्वशासन बेहद पेचिदा है और कुछ लोग विकिपीडिया की आत्मस्वीकृति, कि विकिपीडिया कोई लोकतंत्र नहीं है, के बावजूद इसमें लोकशाही की झलक देखते हैं तो कुछ यह मानते हैं कि लोकतंत्र की भावना के उलट यहाँ हर चीज बहुमत से काम नहीं करती।

प्रस्तुत लेख विकिपीडिया की आत्मस्वीकृति पर ही आधारित है। ये नियम विकिपीडिया के ही इस पृष्ठ से लिये गये हैं। पर यर्थाथ में सारे नियम माने जा रहे हों यह सच नहीं है क्योंकि, और जैसा आप इस लेख में आगे पढ़ेंगे, ये नियम मात्र हैं, विधान नहीं।

1 विकिपीडिया शब्दकोश नहीं है

जी हाँ, आधिकारिक रूप से विकिपीडिया कोई शब्दकोश नहीं है। इसमें शब्दों के अर्थ, व्याख्या या प्रयोग जोड़ना मना है। इसका कारण है कि विकिपीडिया की भगिनि प्रकल्प विक्शनरी एक विकि शब्दकोश है। विकिपीडिया को शब्दकोश का रूप देने से बचाने के लिये एक नियम यह भी है कि किसी लेख में विषय की केवल परिभाषा ही नहीं, अन्य विवरण भी साथ होना ज़रुरी है। हालांकि हिन्दी विकिपीडिया पर ऐसे लेखों की भरमार है (कई लेख शायद स्वचालित बॉट द्वारा बनाये गये हैं) इनका उद्देश्य लेखों की संख्या बढ़ाने के लिये भले किया गया हो सिद्धांतः ये विकिपीडिया नहीं विक्शनरी का हिस्सा होने चाहिये।

2 विकिपीडिया मौलिक विचारों का प्रकाशक नहीं है

विकिपीडिया पर आप अपने विचार या विश्लेषण या कोई ऐसी जानकारी जो पूर्व में सर्वथा अप्रकाशित हो सम्मिलित नहीं कर सकते। हिन्दी विकीपिडिया पर इस तरह के कई लेख, जो सीधे ब्लॉग से लिये गये हैं और लेखक की राय भर रखते हैं, इस पैमाने पर खरे नहीं उतरते। विकिपीडिया पर निम्नलिखित किस्म के लेख शामिल करना वर्जित है:

  • मौलिक शोध, विचार, शब्द निर्माण (जब तक कि ये किसी जर्नल या प्रतिष्ठित जालस्थल पर प्रकाशित व प्रचारित न हुये हों)
  • मौलिक आविष्कार (जब तक इसे अनेक, स्वतंत्र और विश्वसनीय स्रोतों ने जाँच परख कर इसके बारे में खबर प्रकाशित न की हो)
  • किसी विषय पर निजी निबंध (जहाँ किसी व्यक्ति की राय का ज़िक्र करना ज़रुरी हो वहाँ भी यह ज़रूरी है कि लेख किसी और का लिखा हो)
  • किसी विषय पर बहस या परिचर्चा
  • पत्रकारिता: विकिपीडिया पर मौलिक रपटें या ब्रेकिंग न्यूज़ प्रकाशित नहीं हो सकतीं क्योंकि यह खुद को खबरों का मूल स्रोत नहीं मानता। इसके लिये विकिपीडिया का एक और प्रकल्प है विकीन्यूज़। इसके बावजूद मुंबई हमलों के दौरान विकिपीडिया के इस ताबड़तोड़ बने पृष्ठ को सामान्य पाठकों के अलावा मुख्यधारा के मीडिया ने भी मूल स्रोत मान कर इसका अनेकों बार ज़िक्र किया।

3 विकिपीडिया विज्ञापनबाजी, प्रचार व अटकलबाजी के लिये नहीं है

विकिपीडिया आर्थिक, राजनैतिक, धार्मिक या किसी भी प्रकार से किसी की वकालत या प्रचार नहीं करता। किसी लेख में ऐसे मुद्दों के बारे में रपट हो सकती है पर इसे पूरी तरह तटस्थ दृष्टकोण से लिखा जाना चाहिये। इसी तरह सामयिक विषयों पर टीका टिप्पणी भी वर्जित है। जीवित व्यक्तियों की निजता की सुरक्षा व मानहानी जैसी दिक्कतों से बचने की लिये चुगलखोरी, स्कैंडल और गॉसिप (मसलन, फिल्म अभिनेत्री रेखा की उम्र का अनुमान लगाना) भी मना है। कंपनियों व उत्पादों के बारे में लिखे लेख निष्पक्ष होने चाहियें। भविष्य का अनुमान लगाने वालें लेख शामिल करना भी मना है, अर्थात आप तृतीय विश्व युद्ध में इस्तेमाल होने वाले हथियारों की सूची या पाकिस्तान द्वारा मुबंई आतंकवाद मुद्दे पर उठाये जाने वाले कदमों का कयास लगाता लेख विकिपीडिया पर नहीं बना सकते। भविष्य के बारे में लिखने के लिये हालांकि एक और प्रकल्प फ्यूचर विकिया मौजूद है।

बहुमत की जीत, या अपनी?

Wikipedia is controlled by a few
यदि लोकतंत्र का मतलब लोकशक्ति है तो इस पैमाने पर विकिपीडिया निःसंदेह लोकतंत्र है। पर लोकतंत्र की तईं यहाँ हर चीज बहुमत से काम नहीं करती।

स्लेट पत्रिका ने अपने एक विवादास्पद लेख में लिखा:

“विकिपीडिया का विरोध करना मुश्किल है। प्रयोक्ताओं द्वारा बनाया और संपादित विश्वकोश, जहाँ अंशदाता का पंजीकृत होना भी अनिवार्य न हो, नेचर पत्रिका के एक शोध के अनुसार परिशुद्धता के मामले में एन्साइक्लोपीडिया ब्रिटानिका से भी लोहा लेता है। वो भी कई गुना अधिक सामग्री के साथ। इसके बावजूद जहाँ लोग विकिपीडिया को एक अच्छा प्रकल्प मानते हैं इसकी सफलता का कारणों के बारे में अब भी भारी भांतियाँ हैं। विकिपीडिया भले ही आनलाईन समुदायों की सर्जनात्मक शक्ति का द्योतक हो पर यह मान लेना भूल होगी कि विकिपीडिया की सफलता के पीछे सामूहिक अक्लमंदी (विज़डम आफ क्राउड) है।

डिग व विकिपीडिया सदृश सोशियल मीडिया जालस्थल अंतर्जालिय लोकशाही के शानदार उदाहरण के रूप में पेश किया जाते हैं, जिनमें करोड़ों लोग लेखक, संपादक या मतदाता की भूमिका निभाते हैं। पर वास्तविकता यह है कि ये जालस्थल मुट्ठी भर लोग ही चला रहे होते हैं। पालो एल्टो के शोधकर्ताओं के अनुसार विकिपीडिया पर आधे से ज्यादा संपादन की ज़िम्मेदारी महज़ 1 फीसदी विकि प्रयोक्ताओं पर होती है। इस के अलावा विकिपीडिया स्वचालित बॉट का भी इस्तेमाल करता है जो मानकों का अनुसरण सुनिश्चित करता है, बर्बरता यानी पृष्ठों पर ऊलजलूल संपादन हटाता है और अश्लील सामग्री डालने वाले प्रयोक्ताओं की खबर लेता है। अतः यह विज़डम आफ क्राउड नहीं है। यह दरअसल विज़डम आफ चैपेरोन्स यानी संरक्षकों की अक्लमंदी है।”

4 विकिपीडिया चित्र, फाईलें, कड़ियाँ, किसी जालस्थल की प्रतिलिपी इत्यादी रखने की जगह नहीं है

विकिपीडिया पर किसी लेख के साथ कुछ कड़ियाँ शामिल करना उचित है पर केवल लेख में फक्त कड़ियाँ हीं नहीं हों। सार्वजनिक डोमेन की वस्तुयें जैसे की समूची किताबें या सोर्स कोड, ऐतिहासिक दस्तावेज़, गानों के बोल वगैरह विकिपीडिया नहीं विकिसोर्स पर डालने चाहिये। इसी तरह विकिपीडिया को ब्लॉग या सोशियल नेटवर्क जैसे प्रयुक्त करना मना है। अपने किसी मनपसंद जीवित या दिवंगत व्यक्ति, मित्र या रिश्तेदार के लिये आप तब तक पृष्ठ नहीं बना सकते जब तक कि वे विकिपीडिया की नोटेबिलिटी मानक (यह बेहद पेचीदा और नकचढ़ा मानक है, जिस से नये विकिपिडियन सबसे ज्यादा तंग होते हैं। बॉक्स आलेख भी देखें) पर खरे न उतरते हों। संक्षेप में कहें तो आपकी दादी के नाम पर तभी पृष्ठ बन सकता है अगर वे रेखा या वहीदा रहमान हों।

5 विकिपीडिया निर्देशिका नहीं है

विकिपीडिया यलो पेजेस भी नहीं है। यदि आप, उदाहरणतः, प्रसिद्ध उक्तियों का संकलन बनाना चाहते हैं तो विकिपीडिया की बजाय एक अन्य प्रकल्प विकिकोट्स इसकी सही जगह है। इसी तरह किसी रेडियो स्टेशन पर लिखे आलेख में उसके तमाम कार्यक्रमों की फेहरिस्त नहीं दी जा सकती।

6 विकिपीडिया कागजी विश्वकोश नहीं है

तकनीकी रूप से विकिपीडिया पर कागजी विश्वकोश की तरह स्थानाभाव की समस्या नहीं होती। विकिपीडिया पर शामिल विषयों की संख्या पर कोई बंधन नहीं है। तथापि विकिपीडिया पर जो तकनीकी रूप से संभव है वह तर्कसंगत भी होना चाहिये। विकिपीडिया को धीमे इंटरनेट कनेक्शन पर भी लोग पढ़ते हैं ऐसे में भरपूर सामग्री वाले भीमकाय पृष्ठ लोड होने में समय लेंगे। इन्हें छोटे छोटे आलेखों में बदल देना उपयुक्त माना जाता है। इसके साथ ही विषयों को शामिल करने के अपने बंधन तो हैं ही।

7 विकिपीडिया पाठ्यपुस्तक, गाईड या नियम पुस्तिका नहीं है

पकवान बनाने की विधि, शिक्षकिय, या कैसे करें नुमा लेख विकिपीडिया पर नहीं दिये जा सकते। विकिपीडिया का उद्देश्य तथ्य बताना और हवाला देना है पर किसी विषय को पढ़ाना नहीं। हालांकि ऐसे लेखों को विकिहाउ या विकिबुक्स में शामिल किया जा सकता है। ताज़ महल के विवरण के साथ नज़दीक के होटलों के नाम पते बताता लेख विकिपीडिया पर नहीं चलेगा पर इसे विकीट्रैवल पर लिखा जा सकता है।

8 विकिपीडिया लोकतंत्र नहीं है

जी हाँ आपने सही पढ़ा। विकिपीडिया पर आम राय वोटिंग से नहीं, संपादन और वार्ता पृष्ठों पर अंतहीन चर्चा के द्वारा होती है। विकिपीडिया के बारे में इस लेख में व विकिपीडिया पर भी वर्णित सेंकड़ों नियम कानून के बावजूद आप यह याद रखें कि ये कोई विधान नहीं हैं, न ही पत्थर पर खीचीं लकीर हैं। यानी आप इन नियमों का हवाला देकर किसी विकिपीडिया एडमिन से कोई सवाल नहीं कर सकते। “विकिपीडिया के भले के लिये” वे, और आप भी, इन्हें न मानने को स्वतंत्र हैं। विकिपीडिया बिलाशक स्वतंत्र व मुक्त माध्यम हो पर इसके पनपने में बाधा बनने पर, अराजकता से यथासंभव बचते हुये, इन दोनों गुणों को त्यागा जा सकता है। विकिपीडिया पर बोलने की आजादी भी नियमों के तहत है।

साईट जाये, पर सेंसर न कर पाये

हाल ही में ब्रिटेन स्थित इंटरनेट वॉच फाउंडेशन (IWF), जो इंटरनेट पर बच्चों के यौन शोषण के चित्र का विरोध करती है, ने विकीपीडिया पर एक जर्मन हेवी मेटल बैंड “द स्कॉरपियंस” के विकिपृष्ठ पर उनके 1970 के एक अल्बम के आवरण चित्र पर आपत्ति की जिसमें एक निर्वस्त्र किशोरी को दर्शाया गया था। IWF की बात मानते हुये अनेक बरतानी ISP ने इस पृष्ठ पर रोक लगा दी। पर विकिपीडियान समुदाय ने अपनी नीतियों पर कायम रहते हुये एक अभूतपूर्व निर्णय लिया। न केवल चित्र को न हटाने का निर्णय लिया गया बल्कि सिर्फ प्रतिबंधित पृष्ठ की बजाय उन्होंने अपनी संपूर्ण वेबसाईट को ही रोक लगाने वाले इन 6 ISP के लिये बंद कर दिया। IWF की धारणा के विपरीत इस सारे काँड ने इस अल्बम कवर को रातों रात इंटरनेट की सनसनी बना दिया। [यह लेख भी देखें]

9 विकिपीडिया को सेंसर नहीं किया जाता

विकिपीडिया पर ऐसी सामग्री शामिल की जा सकती जो आपत्तिजनक या घृणाजनक हो। चुंकि कोई भी लेख संपादित कर सकता अतः ज़रूरी नहीं कि हर लेख व उसमें प्रयुक्त चित्र सामाजिक व धार्मिक मानदंडों पर खरे उतरें। तथापि अनुपयुक्त सामग्री को हटा दिया जाता है खास तौर पर यदि लेख या चित्र द्वारा अमरीकी कानून का उल्लंघन होता हो। पर केवल आपत्तिजनक होना ही सामग्री को हटाने के लिये नाकाफी होता है, कई लेख जैसे शिश्नहस्तमैथुन में आपत्तिजनक चित्र हैं।

सेंसर न किये जाने की जिद पर विकिपिडिया ने कई दफ़ा कानूनी अड़चनों का भी सामना किया पर अपनी नीति से वे टस से मस न हुये। 2008 के उत्तरार्ध के एक घटनाक्रम में विकिपिडिया ने ब्रिटेन की इंटरनेट विनियामन संस्था IWF द्वारा एक विकिपृष्ठ पर प्रतिबंध लगाने के निर्देशों का विरोध करते हुये अपनी संपूर्ण साइट ही इन प्रयोक्ताओं को उपलब्ध न कराने का कठोर निर्णय तक ले लिया (बॉक्स देखें) पर विवादास्पद चित्र हटाने से साफ इंकार कर दिया।

10 विकिपीडिया पर आपकी बनाई सामग्री आपकी नहीं है

विकिपीडिया आपका वेब होस्ट नहीं है। यहाँ तक की आपका प्रयोक्ता पृष्ठ भी विकिपीडिया कि मालकियत है। इसे आप अपने होमपेज या ब्लॉग की तरह नहीं बना सकते। इसका स्वप्रचार के लिये इस्तेमाल नहीं किया जा सकता।

आपको ये लेख भी पसंद आयेंगे:

ज़माना स्ट्राइसैंड प्रभाव का
प्रिंट आन डिमांड से लेखक प्रकाशक भी बने
रोजगार पोर्टल पहुंचे गाँव देहात
फेसबुक और एमएस आफिस बने दोस्त
रॉकमेल्ट ब्राउज़र : फ़ेसबुकिया वेब की पराकाष्ठा?

3 प्रतिक्रियाएं

  1. बहुत अच्छे दादा !
    एक अलग कोण से आपने विकिपिडिया को दिखाया | मेरे हिसाब से अन्य विश्वकोशों एवं विकिपिडिया में वही अन्तर है जो राजतन्त्र और लोकतन्त्र में ।

  2. ये हुई न बात! इसे कहते हैं कंटेंट की स्तरीयता। निरंतर भी में पाठकों ने स्तरीय सामग्री का आस्वादन किया है मगर सामयिकी उससे कहीं आगे की बात हैं। नि:संदेह यह एक मानक तय करेगा। उपरोक्त आलेख भी इस बात की पुष्टि करता है। इसे पढ़कर मेरी भी कई भ्रांतियाँ दूर हुईं। साथ ही मुझे लगता है इस आलेख से पाठकों में विकिपीडिया को लेकर एक नये सिरे से रुचि पैदा होगी। पुन: इस आलेख के लिए साधुवाद!

  3. इस लेख को पढ़ कर बहुत संतोष हुआ. इस तरह के लेख लिखना जारी रखें.