Month: September 2009

समाज

बालिका वधु: नाटक द्वारा सच का सामना

कुछ नेताओं की सोच के विपरीत संजय रानाडे मानते हैं कि यह दुर्लभ धारावाहिक बाल विवाह को “बढ़ावा” नहीं बल्कि मनोरंजन द्वारा दर्शकों को सामाजिक संघर्ष का बौद्धिक रूप से सामना करने की प्रेरणा दे रहा है।

पूरा पढ़ें