शीघ्र प्रकाश्य

निरंतर ब्लॉगज़ीन का नया अवतार

सामयिकी तकनलाजी, सामाजिक आर्थिक व राजनैतिक परिदृश्य पर एक नई जालपत्रिका है। इस नई पत्रिका में निरंतर ब्लॉगपत्रिका समाहित हो जायेगी। पत्रिका से जुड़ने के लिये या अधिक जानकारी के लिये पत्रिका के प्रकाशक को samayiki at gmail dot com पर ईमेल लिख सकते हैं।

आपको ये लेख भी पसंद आयेंगे:

सामयिकी चिट्ठा वार्षिकी सर्वेक्षण 2008
सामयिकी का जनवरी 2009 का प्रिंट अंक उपलब्ध

9 प्रतिक्रियाएं

  1. हिदीं लिखाडि़यों की दुनिया मे आपका स्वागत। अच्छा लिंखे। बढि़या लिखे। हा्र्दिक शुभकामनांए।

  2. आपका स्वागत है आशा है कि आपका ब्लॉग अच्छी और रोचक जानकारी लाएगा

  3. बहुत सुंदर…आपके इस सुंदर से चिटठे के साथ आपका ब्‍लाग जगत में स्‍वागत है…..आशा है , आप अपनी प्रतिभा से हिन्‍दी चिटठा जगत को समृद्ध करने और हिन्‍दी पाठको को ज्ञान बांटने के साथ साथ खुद भी सफलता प्राप्‍त करेंगे …..हमारी शुभकामनाएं आपके साथ हैं।

  4. आपकी इस नवीन योजना का हार्दिक स्वागत है … आप मेरे ब्लॉग पर जाकर मेरी रचनाओं को देखें यदि उचित लगे तो मैं आपकी मगज़ीन से जुड़ने को तैयार हूँ

  5. Congrats,

    I am waiting for the First Edition.

  6. इस जालपत्रिका के लिए देबू दा को हार्दिक शुभकामनाएं। विश्‍वास है कि यह प्रकाशन लोकप्रियता की बुलंदियों को छुएगा।

  7. भावों की अभिव्यक्ति मन को सुकुन पहुंचाती है।
    लिखते रहि‌ए लिखने वालों की मंज़िल यही है।

  8. इधर से गुज़रा था सोचा सलाम करता चलूंऽऽऽऽऽऽऽ
    और बधाई भी देता चलूं…

  9. हिदीं लिखाडि़यों की दुनिया मे आपका स्वागत। अच्छा लिंखे। बढि़या लिखे। हा्र्दिक शुभकामनांए।